राष्ट्रीय अंतर्विषयी विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी संस्थान

वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद्ü भारत, तिरुवनंतपुरम

लिविंग सुप्रा आण्विक बहुलकीकरण

आर.डी.मुखोपाध्याय, ए. अजयघोष

हम अधिकांश इस्तेमाल करनेवाले पॉलिमरों जैसे , किराने की थैलियों में और सोडा बोतलों मजबूत सहसंयोजक बांड द्वारा एक साथ संयोजित छोटे अणुओं (मोनोमर्स) से बनते हैं

Science 2015, 349, 241–242.